Untitled

जज़्बातों के दस्तक ना दो अब इस दिल के दरवाजे पर

जनाज़ा उठ चुका है वहां अब कोई मोहब्बत नहीं रहती

-- रश्मि किरण

3 views0 comments

Recent Posts

See All